कल्पना चावला hindi biography

Spread the love

Kalpana chawla

कल्पना चावला

Hindi kahaniyan

2nd class के बच्चे अपनी विज्ञान की क्लास शुरू होने का इंतजार कर रहे थे। Mr. Ajay Verma उन्हे विज्ञान पढ़ाते है। वे बहुत मजे और अच्छे से उन्हे पढ़ाते है। 

Mr. Verma class में दाखिल होते हैं सारे बच्चों ने उनका अभिवादन किया। गुड मॉर्निंग सर!! 

“गुड मॉर्निंग चिल्ड्रन” ! Mr. Verma ने मुस्कान के साथ जवाब दिया। आज हम एक पाठ पढ़ेंगे। Space के अंदर जाएंगे। शुरू करने से पहले मैं आप सब को कुछ पिक्चर्स दिखाना चाहूंगा।

वो कौन है?? एक तस्वीर पर हाथ रखते हुए mr Verma ने पूछा। 

” Neil Armstrong”, सोनिया ने कहा। वे वो आदमी जिन्होंने चांद पर पहला कदम रखा। 

Good! अब मुझे बताओ की ये कौन है?? 

” Rakesh Sharma” अमन ने कहा। वे पहले भारतीय थे जो space में गए थे। 

Very good ! Mr Verma ने कहा। ” ये कौन है”!! ?

” कल्पना चावला” सारे बच्चों ने चिल्लाते हुए बताया।

” सर कृपया करके हमे इनके बारे में बताइए। सोनिया ने कहा।

 

कल्पना चावला जब एक छोटी लड़की थी, वो एक छोटे से कस्बे में रहती थी जो करनाल, हरियाणा में है। 

वो बहुत intelligent थीं। वे अपनी पढ़ाई पर बहुत मेहनत करती थी। वो विज्ञान को बहुत पसंद करती थी आप सब की तरह। 

 

यहां तक की एक छोटी बच्ची होते हुए भी वो आसमान , चांद , सितारों के बारे में जानने के लिए बहुत उत्सुक थी। वो आकाश मे उड़ने का सपना देखती। वो सितारों तक पहुंचने का सपना देखती। गर्मियों की रात में वो अपने परिवार के साथ तारो के नीचे आंगन में सोती थी। 

वो उनसे बहुत मोहित होती थी। वे किसी दिन उन तक पहुंचने का सपना देखती थी। उन्होंने अपनी विज्ञान की पढ़ाई जारी रखी। उसके बाद वो USA उच्च शिक्षा प्राप्त करने USA चली गई वहां उन्होंने US army भी ज्वाइन की। “Montu”, जैसे उनको बोला गया था, उन्होंने कड़ी मेहनत की और अपने सपनो का साकार किया। वो स्पेस में जाने वाली पहली भारतीय महिला बनी। वो पहली बार स्पेस में 1997 में गई। उनके साथ 5 astroaunts थे। वो जिस स्पेस शटल में उड़े थे उसका नाम coloumbia था।

 

“कल्पना दूसरी बार स्पेस में 16 जनवरी, 2003 में गई। और उन्होंने वहां अपना शोध कार्य किया। लेकिन दुर्भाग्यवश, उनका स्पेस शटल, coloumbia, क्रैश हो गया जब वो धरती पर वापस आ रही थी। 

कल्पना चावला Ist जनवरी, 2003″ में उनकी मृत्यु हो गई। 

Mr Verma कुछ देर रुके। फिर बोले,” भारत को हमेशा कल्पना चावला पर गर्व होगा। तुम सब को भी अपने सपने पूरे करने के लिए मेहनत करनी चाहिए।

इस पर, स्टूडेंट्स ने मेहनत करने का promised किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.