pari story bacchon ki kahani in hindi

Spread the love

pari ki kahani bacchon ka kahani in hindi

हिंदी बच्चो की कहानियां

 

pari story सोफिया और जॉन दोनो भाई बहन अपने मां बाप के साथ अमेरिका में रहते थे। सोफिया बड़ी बहन थी और जॉन उससे छोटा उन दोनो की मां बचपन में ही गुजर गई थी जिसके बाद उनके पापा ने दूसरी शादी कर ली ताकि बच्चो को मां का प्यार मिलता रहे। शुरुआत में तो जॉन और सोफिया अपनी मां के साथ बहुत खुश थे पर जब उनकी मां को एक बच्चा हो गया उसके बाद जैसे उनकी तो कोई वैल्यू ही नही बची।सारा प्यार केयर और importance सिर्फ नए बच्चे को दी जाती थी और उन दोनो से हमेशा बुरा व्यवहार किया जाता था कभी सोफिया कोई काम गलत कर देती तो उसकी सौतेली मां उसे बहुत पीटती अगर जॉन कुछ गलती कर देता तो उसे तो एक वक्त का खाना भी नहीं दिया जाता। उन दोनो के पापा जो उनके अपने थे अब वो भी कुछ न कहते। सब कुछ बस देखते रहते थे ।

एक दिन की बात है सोफिया और जॉन अपने कमरे में बैठे बाते कर रहे थे की तभी वहां उनकी सौतेली मां आई और बोली, ओहो देखो तो घर में इतना काम है करने को लेकिन इन दोनो भाई बहन को तो बातो से ही फुर्सत नही है। चलो और कुछ काम करो जाकर और याद रहे अगर कुछ काम बिगड़ा तो तुम दोनो को कल सुबह तक कुछ खाने को नही मिलेगा। और कुछ ऐसा ही हुआ सफाई करते वक्त जॉन के हाथ से वास टूट गया। जब उनकी सौतेली  मां को  पता चला तो उसने उन दोनो को बोहोत पीटा। और खाना भी नहीं दिया। रात को जब उनकी सौतेली मां और पापा सो गए तब सोफिया रोते रोते अपनी मरी हुई मां को याद करने लगी। जॉन भी रोने लगा जॉन ने अपने आंसू पोछे और सोफिया से कहा सोफिया अब बस बहुत हो गया अब हम यहां नही रहेंगे। यहां किसके लिए रहें हर दिन तो हमे मारा जाता है इतना काम करवाया जाता है अगर छोटी सी ही गलती हो जाए तो हमे भूखा भी रहना पड़ता है इससे अच्छा ये होगा की हम यहां से कही भाग जाएं। ये सुन  कर सोफिया बोली जॉन पर हम कहां जाएंगे हम तो किसी को नही जानते। जॉन ने कहा अभी पता नही बस मेरे साथ चलो। दोनो ने एक दूसरे का हाथ पकड़ा और भागने लगे भागते भागते वो एक घने जंगल में जा पहुंचे हर जगह बस पेड़ ही पेड़ और एक अजीब सा सन्नाटा था

kahani in hindi

दूर दूर तक वहां कोई नही था अन दोनो को दर लगने लगा की कही कोई जानवर न हमे उठा कर ले जाए वहां एक बुरी चुड़ैल रहती थी जो काफी दिनों से भूखी थी उसने जब देखा की 2 छोटे बच्चे जंगल में खो गए हैं तो वो बहुत खुश हुई वो बोली अरे वाह इतने दिनो से में भूखी थी अब खाना मिला है। आज तो दावत होगी। उसने अपना रूप एक खूबसूरत औरत में बदला और एक टोकरी में कुछ फल लेकर उन दोनो के सामने गई और कहने लगी बच्चो कौन हो तुम दोनो क्या तुम अकेले हो सोफिया और जॉन उस औरत को देख कर कुछ राहत महसूस करने लगे और बोले की हां हम दोनो अपने घर से भाग आएं हैं पर अब हम कहां जाए कुछ समझ नही आ रहा। हमे भूख भी लग रही है चुड़ैल ने उन्हें वो फल दिए जिसमे बेहोसी की दवा थी

वो दोनो फल खाते ही बेहोश हो गए चुड़ैल उन दोनो को उठा कर अपनी झोपड़ी में ले गई। और उन्हें जैसे ही खाने को आगे बढ़ी चुड़ैल ने सोचा की क्यूं ना आज मैं नहा कर दावत करूं। और वो उनको वही छोड़ कर नहाने चली गई। जब उन दोनो को होश आया तो वो बोहोत डर गए। उन्होंने आंख बंद करके अपनी मां को याद किया और सच में एक परी उनके सामने आ गई और बोली आंखें खोलो मेरे प्यारे बच्चो देखो मैं आ गई। में हूं तुम्हारी मारी हुई मां अब परी बन कर आई हूं। इतनी देर में वो बुरी चुड़ैल वहां आ गई और बहुत गुस्सा हुई परी मां और उस चुड़ैल में अब लड़ाई हुई और परी मां ने उस चुड़ैल को मार डाला। और अपने बच्चो को लेकर उड़ गई। जॉन ने परी मां से कहा मां आप कहां चली गई थी आपको पता है उस घर में हमारे साथ कितना दुर्व्यवहार होता था इसलिए हम वहां से भाग आए। परी मां बोली चिंता मत करो बेटे अब मैं आ गई हूं ना अब तुम्हे कुछ नही होगा और फिर तभीसे जॉन और सोफिया अपनी परी मां के साथ रहने लगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.