भूतिया गुड़िया bhutiya gudiya bhutiya doll

Spread the love

भूतिया गुड़िया bhutiya gudiya doll horror story in hindi

रानी अपने माता पिता के साथ अमेरिका के केपटाउन में रहती थी। उसे खिलौनों से खेलने का बोहोत शौक था। एक बार की बात है वो अपने घर के पीछे वाले लॉन में फुटबॉल खेल रही थी तभी उसके पापा ने उसको आवाज दी  रानी जल्दी यहां आओ देखो मैं तुम्हारे लिए क्या लाया हूं।रानी जल्दी से अपनी फुटबॉल वही छोड़ कर घर के अंदर गई उसने देखा की पापा उसके लिए एक डॉल लाए हैं वो उस डॉल को देख कर बहुत खुश हुई वो डॉल लेकर अपने कमरे में चली गई रानी को वो डॉल बोहोत प्यारी लग रही थी उसकी बड़ी बड़ी नीली आंखें चेहरे पर हल्की सी मुस्कान ऐसा लग रहा था मानो वो गुड़िया रानी को ही देख रही हो रानी पूरा दिन उस डॉल के साथ खेलती रही शाम को रानी की मम्मी ने आवाज दी

“रानी जल्दी आ जाओ डिनर तैयार है।”

रानी ने कहा हा मम्मी अभी आई रानी ने अपनी डॉल doll उठाई और डाइनिंग टेबल पर बैठ गई मम्मी ने रानी से कहा बेटा तुम ये डॉल doll को अपने साथ क्यों लाई हो इसे रख दो खाना खा कर इससे खेल लेना।

रानी ने बोला नही मम्मी आज ये डॉल भी मेरे साथ ही खाना खायेगी।

मम्मी और पापा हंसे और बोले अच्छा ठीक है ।

सबने खाना खाया और रानी गुड़िया gudiya को लेकर अपने कमरे में चली गई।

bhutiya gudiya

रात में जब रानी सो रही थी तो उसे कुछ आवाज आई जैसे किसी ने उसका नाम लिया हो रानी ने उठ कर देखा तो वहा कोई नही था रानी को लगा कि शायद ये उसका वहम होगा और वो वापस सो गई तभी अचानक गुड़िया ने  रानी की तरफ देख कर अजीब सी मुस्कान दी ।

गुड़िया gudiyaअपनी जगह से उठी और रानी के कमरे room से बाहर निकल गई अब वो पूरे घर में घूमने लगी।  गुड़िया घूमते हुए कह रही थी “वाह कितना बड़ा घर है में तो उस दुकान में एक ही जगह बैठे बैठे बोर ही हो गई थी अब इस घर में आराम से रहुंगी “फिर वो गुड़िया घूमते घूमते किचन में जा पहुंची और देखा की वहा बोहोत अच्छे अच्छे फल रखे हुए हैं गुड़िया ने जल्दी से वो फल लिए और खाने लगी आधा खाया हुआ सेब उसने वही फेक दिया और वापस रानी के कमरे में चली गई।थोड़ी देर में सुबह हो गई रानी की मम्मी जब किचन में नाश्ता बनाने के लिए गई तो उन्होंने वहां आधा खाया हुआ सेब देखा और बोला अरे ये सेब यहां ऐसे किसने फेक रखा है उन्होंने सोचा की शायद रात में रानी को भूख लगी होगी तो वो यहां आ गई होगी ।

जब सब नाश्ता कर रहे थे तो मम्मी ने रानी से पूछा” रानी अगर तुम्हे रात Raat को  भूख लगी थी तो मुझे जगा देती?”

रानी ने हैरान हो कर कहा क्या ?

ये आप क्या कह रही हो मम्मी मैं तो सोने के बाद सीधा सुबह ही उठी हूं मम्मी ने सोचा की शायद रानी झूठ इसलिए बोल रही है ताकि मैं उसे ना डांटू ।

शाम को सबको बाहर घूमने जाना था सब तैयार हुए और चलने लगे रानी अपनी डॉल को भी अपने साथ ले जाने लगी । तो मम्मी ने उसे रोका और कहा “रानी इसे कहां ले जा रही हो?” इसे यहीं छोड़ दो वापस आकर इससे खेल लेना। रानी ने मम्मी की बात मान ली और गुड़िया को वही छोड़ दिया सब चले गए। कुछ देर बाद वो गुड़िया उठी और फिर से पूरे घर में घूमने लगी तभी पड़ोस में रह रही एक औरत ने देखा कि घर के बाहर तो ताला लगा है फिर ये परछाई किसकी है? वो औरत डर गई और जल्दी से अपनी खिड़की बंद करके चली गई।

उधर गुड़िया  doll घर में घूमते हुए बोली,” बोहोत भूख लग रही है किचन में जा कर देखती हूं क्या पता रात की तरह फिर से कुछ खाने को मिल जाय।”

वह किचन में गई और फ्रिज में से दूध निकाल कर पी गई। और फिर से वो रानी के कमरे में चली गई। जब घरवाले वापस आए तो रानी ने देखा कि गुड़िया को तो मैं हॉल में रख कर गई थी कहां चली गई? वो कमरे में गई तो उसने देखा कि गुड़िया वही रखी है रानी हैरान हो गई उसने सोचा की शायद में यहीं रखकर भूल गई होंगी अब जैसे ही रात होती वो गुड़िया फिर से पूरे घर में घूमने लगती और सुबह होने से पहले वापस रानी के कमरे में आ जाती । अब ये सिलसिला रोज का हो गया था। ऐसे ही एक बार वो गुड़िया घर में घूम रही थी, की तभी फिर से उस पड़ोस वाली औरत ने उसे देख लिया।

इस बार उससे रहा नही गया। सुबह होते ही वो रानी के घर गई और रानी की मम्मी को सब कुछ बताया। मम्मी ने वो डॉल doll उठाई और बेसमेंट में जाकर फेक दी। रात night हुई तो डॉल अपने आप वहां निकलकर गई और बोली,” इनको क्या लगा मुझे यहां फेंकने से में चली जाऊंगी अब मैं किसी को नही छोडूंगी”। इतना कहकर गुड़िया मम्मी के कमरे में गई और चिल्लाई,बचाओ! बचाओ! आवाज सुन कर रानी और उसके पापा वहां आए अब गुड़िया कभी रानी पर तो कभी पापा पर हमला करती । तीनो किसी न किसी तरह उस डॉल doll से बच कर पड़ोस वाली औरत के घर गए। उस औरत ने  बताया की वो एक तांत्रिक tantrik को जानती है जो पहाड़ी पर तपस्या करते हैं। तीनो जल्दी से पहाड़ी वाले बाबा के पास गए और उनको अपने घर ले आए। बाबा babaने एक घेरा बनाया और कुछ मंत्र पढ़ने लगे डॉल उस घेरे में  आ गई और चिल्लाने लगी,” छोड़ मुझे तांत्रिक नहीं तो बेमोत मारा जायेगा बाबा uspe ध्यान नहीं देते और मंत्र का उच्चारण जारी रखते है अब बाबा ने गुड़िया के उपर गंगा जल डाला और उसको आग लगा दी गुड़िया चिल्लाने लगी और ऐ !तांत्रिक क्या कर रहा है तू छोड मुझे छोड़ बचाओ! बचाओ! इतना कहते ही गुड़िया गायब हो जाती है।

बाबा baba कहते है की आप सब सुरक्षित है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.