bhangarh fort story in hindi

Spread the love

Bhangarh me ek raat bhooto ke sath Horror stories bhangarh fort story in hindi

 Hindi kahaniyan

Horror stories

 

bhangarh fort story in hindi भानगढ़ इंडिया india की सबसे डरावनी जगह में से एक है। कहते है की यहां अब भी रानी की आत्मा और जो कुछ भी पहले था अब भी मौजूद है पर क्या किसी ने देखा? किसी ने सुना या कुछ महसूस किया ये कितनी हकीकत है और कितना फसाना आइए जानते है।

 

ये बात कुछ समय पहले की ही है एक साहिल नाम का लड़का था जिसे पुरानी इमारत या कोई भी ऐतिहासिक( historical) chije ya places जगह जाना और वहां की हर एक चीज को देखना और उन्हें महसूस करना बोहत अच्छा लगता था। कई बार वो बहुत सी historcal जगहो पर गया था इस बार भी उसे ऐसे ही किसी जगह पर जाने की तलाश थी। वो अपने लैपटॉप पर historical Places को देख रहा था की तभी उसकी नजर भानगढ़ किले पर गई। उसने देखा की वो किला ऐतिहासिक के साथ साथ haunted भी है 

उसने वहां के बारे में अच्छे से पढ़ा और वहां की पूरी जानकारी ले ली। और इस बार साहिल भानगढ़ जाने के लिए बोहोत उत्सुक था क्योंकि वो ऐसी जगह जानें वाला था जैसे जगह वो आज तक कभी नही गया।जाने का दिन आया साहिल तैयार हुआ और अकेले ही भानगढ़ की ओर निकल पड़ा। अभी भी वो भानगढ़ से काफी दूर था। उसने सोचा की क्यूं ना इसके बारे में और जानकारी ले ली जाए। उसने अपने cab driver से पूछा,”भैया ये भानगढ़ का क्या रहस्य है? जो लोग वहां जाने से इतना डरते हैं। ड्राइवर बोला,” भाई हजारों साल पहले की बात है यहां एक राजकुमारी  जिसका नाम रत्नावती था वही इस किले को श्रापित बनाने की जिम्मेदार थी। दरसल रानी रत्नावति बहुत खूबसूरत थी। जिसकी खूबसूरती से वहां रहने वाले एक तांत्रिक को रानी से प्यार हो गया और उसने रानी रत्नवती को अपने वश में करने की सोची। एक बार तांत्रिक ने एक पीने की चीज रत्नवती को भेजी पर रत्नवती ने तांत्रिक की हरकत के भाप लिया और उसे फेक दिया। जिसके बाद उस तांत्रिक को मौत की सजा सुनाई गई।पर उस तांत्रिक ने मरते मरते श्राप दिया की सूर्योदय होने तक यहां न किला बचेगा और न ही कोई इंसान। और उस तांत्रिक की कही हुई बात सच हो गई सुबह होने तक वहां सब कुछ बर्बाद हो गया एक पल में सब खत्म हो गया।तभी से ये किला ऐतिहासिक के साथ श्रापित और भूतिया भी बन गया भाई अगर आप भी वहीं जा रहे हैं तो शाम होने से पहले वहां से निकल जाना। 

साहिल,” क्यों? 

ड्राइवर,” कहते है की दिन छुपने के बाद आज भी वहां रत्नवती और उनकी दासियां आती है और अब भी वहां बाजार लगता है जहां से वो चूड़ियां खरीदती हैं।साहिल जोर से हंसा और बोला भाई कौनसे जमाने में जी रहे हो आज के समय में ये दकियानूसी बातो पर यकीन कौन करता है। ड्राइवर बोलता है की साहब आप भले ही ना माने पर जिसने देखा है वो ये सब मानता है। आप अगर सूर्यास्त से पहले वहां से नही निकले तो आपकी ही जान को खतरा हो सकता है। बाकी आपकी जैसे मर्जी मेरा काम आपको आगाह करना था। जो मैने किया।

 

लीजिए साहब आपकी मंजिल bhangarh aa gaya Horror stories

साहिल किले के अंदर गया। और उसने वहां की हर एक चीज देखी उसने देखा की वहां तो मंदिर भी है वो बोला कमाल है मंदिर होते हुए भी ये जगह haunted है।साहिल वहां की हर जगह घूमा और घूमते घूमते उसने सोचा की क्यूं ना आज रात में यही रुक कर देखूं।

देखते हैं की क्या सच में यहां रात को राजकुमारी आती है?

साहिल वहीं रुक गया शाम हो गई जितने भी लोग वहां आए थे वहां से जाने लगे मानो जैसे सभी को भानगढ़ का डर था। पर वो नही गया। साहिल उधर उधर घूमने लगा, वो देखना चाहता था की राजकुमारी और बाकी लोग यहां कब आएंगे।वो चल ही रहा था की उसने वहां कुछ आवाजे सुनी वो उन आवाजों के पीछे गया पर उसे कुछ नही दिखा उसे लगा की शायद उसका वहम है वो अपने रास्ते चल दिया। कुछ देर बाद फिर उसको ऐसा लगा मानो कोई चल रहा है।साहिल ने सारी जगहों पर अच्छी तरह देखा पर उसे वहां कुछ नहीं दिखा उसने सोचा की यहां कुछ नही है ये सोच कर वो वहां से जाने लगा वो बाहर की तरफ जा ही रहा था की उसने देखा किले के बाहर जाने का रास्ता कही गायब सा हो गया है वो डर गया वो घबराता हुआ इधर उधर देखने लगा पर उसे वो रास्ता कही न मिला ऐसा लग रहा था की हर जगह एक जैसी ही हो गई है उसने फिर वही आवाज सुनी और इस बार जो उसने देखा उसे देख कर तो किसी की भी रूह कांप जाए। सामने कई सारी औरते जिन्होंने शाही लिवाज पहना हुआ है इधर से उधर घूम रही हैं और वो जगह जो अभी तक सिर्फ एक खंडहर की तरह दिख रही थी वहां अब बाजार लगे हुए हैं वही सारी चीजे जो उसने सुनी पर कभी भरोसा नहीं किया उसे अब दिखने लगी थी। साहिल मन ही मन बोला की काश मैं आज यहां न आता या फिर शाम होने के बाद यहां रुकने की जिद न करता ये सब यहां कैसे आ सकती है ये तो मर चुके हैं उनमें से एक औरत ने साहिल को देखा और उसे अपनी तरफ आने का इशारा किया साहिल मानो उनके वश में आ चुका था। साहिल अपनी सुध बुध खो चुका था आप भी होते तो को बैठते उन औरतों ने साहिल के साथ क्या किया वो तो नही पता। साहिल न कभी उस किले से बाहर आया और न ही ये रहस्य की गुत्थी सुलझी। वो वहीं गायब हो गया और शायद वो अब मार चुका था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.